Written by 3:06 pm Health & Hospitals

शरीर की रोग प्रतिरोधक छमता को प्राकृतिक तरीके से बढ़ाने के आसान उपाए।



आज हम आपको इस लेख के द्वारा बताएँगे की कैसे आप अपने शरीर के इम्यून सिस्टम तो मजबूत बना सकते है और वो भी बिलकुल नेचुरल तरीके से बाजार में कई सारे ऐसे प्रोडक्ट्स उपलब्ध है जो हमारे शरीर की इम्युनिटी को बढ़ाने का वादा करते है लेकिंग क्या आप जानते है की इन प्रोडक्ट्स के कई सारे साइड इफेक्ट्स होते है जो बाद में हमारे शरीर की सारी नेचुरल ताकत को खत्म कर सकते है और हम इन्हे इस्तेमाल करने की सलाह बिलकुल नहीं देते। तो आइये जानते है उन छोटी-छोटी चीज़ो के बारे में जो बड़ी ही आसानी से हमारे आस पास पायी जाती है लेकिंग हमे उनके चमत्कारी गुणों के बारे में पता नहीं होता।

सबसे पहले जानते है कुछ ऐसी आदतों के बारे में जिनको अपनी लाइफ-स्टाइल में शामिल करना बहुत ही ज्यादा जरुरी है:-

  1. गहरी नींद लेना- एक वयस्क आदमी को कम से कम 7 से 8 घंटे की पर्याप्त नींद की आवश्यकता होती है और अगर आप इससे कम नींद लेते है तो अपनी इस आदत को तुरंत बदल डाले क्योकि ये आदत आपकी इम्युनिटी को कमजोर बना सकती है इसलिए हमे अपने आपको स्वस्थ बनाये रखने के लिए पर्याप्त नींद जरूर लेनी चाहिये।
  2. व्यायाम या प्राणायाम करना- यदि आप आलसी हैं और कोई फिजिकल एक्टिविटी नहीं करते हैं, तो आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता अच्छी नहीं होगी। रिसर्च के मुताबिक, यह साबित हो गया है कि जो लोग सप्ताह में कम से कम पांच दिन एक्सरसाइज करते हैं उन्हें सर्दी और फ्लू होने का खतरा काफी कम होता है।
  3. तनाव या स्ट्रेस से दूर रहे- तनाव हमारे जीवन का सबसे बड़ा दुश्मन होता है जो की हमे मन से ही नहीं अपितु शारीरिक रूप से भी कमजोर बनाता है और अगर आप तनाव लेते है तो कृपया अपनी इस आदत को जल्द से जल्द बदलने की कोशिश करे क्योकि की तनाव से किसी समस्या का हल नहीं होता, बदले में आप अपने इम्यून सिस्टम को कमजोर कर लेते है।
  4. मादक पदार्थो का सेवन न करे- अगर आप चाहते है की आपका इम्यून सिस्टम स्ट्रांग रहे तो आपको सारे मादक पदार्थो का प्रयोग बंद कर देना चाहिये जैसे:- शराब, धूम्रपान या किसी और तरह का नशा
  5. पोषित आहार लेना-  इम्यूनिटी बढ़ाने का सबसे आसान तरीका ये है कि आपकी डाइट सही और क्लीन हो। डाइट में हरी सब्जियां, फल, होल ग्रेन, प्रोटीन फूड्स, डेयरी प्रोडक्ट्स आदि शामिल होना चाहिए।
  6. संतुलित मात्रा में विटामिन सी का सेवन करे- दुनिया भर के शोधकर्ताओं ने यह साबित कर दिया है कि विटामिन सी कीटाणुओं को मारने के लिए नैचुरल फाइटर्स के प्रोडक्शन में मदद करता है। एक वयस्क को प्रति दिन 400 मिलीग्राम विटामिन सी की आवश्यकता होती है, जो मिर्च, संतरे, जामुन या फिर किसी सप्लीमेंट से भी ली जा सकती है।
  7. पर्याप्त मात्रा में पानी पिये- गर्मी का मौसम अभी चल रहा है जिसमे हमे अपने शरीर के लिए ज्यादा पानी की आवश्यकता पड़ती है लेकिंग कई लोग पानी की मात्रा को ध्यान में नहीं रखते, जिस कारण उनके शरीर में पानी की मात्रा काफी कम हो जाती है। और आप ये बात तो जानते ही होंगे कि पानी हमारी बॉडी के लिए सबसे जरूरी होता है।   
  8. और अब हम आपको बताते है उन नेचुरल हर्ब्स के बारे में जो की हमारे घर या किचन में आसानी से मिल जाते है जोकि हमारे इम्यून सिस्टम को बूस्ट करने में एक अहम् भूमिका निभाते है।

अदरक (Ginger)

घर में आसानी से उपलब्ध होने वाला अदरक आपके लाखों दुखों की दवा है. आयुर्वेद में अदरक का काफी महत्व बताया गया है. रोजाना अदरक का सेवन करने से हमारे पाचन तंत्र को दुरुस्त रखने में काफी सहायता करता है और इसके रोज़ाना प्रयोग से आपके शरीर में कई बड़े बदलाव देखे जा सकते हैं. किसी भी रूप में इसके रूटीन को फॉलो करने पर आपको फर्क महसूस जरूर होगा।

लोंग (Cloves)

लौंग के फायदों के बारे में आपने अक्सर सुना होगा. भारतीय मसालो में लौंग (Cloves) का इस्तेमाल खाने के स्वाद और खुशबू को बढ़ाने के लिए किया जाता है. हमारे इम्यून सिस्टम को बूस्ट करने में भी लोंग काफी फायदेमंद मानी जाती है जिसे हमे अपने भोजन का हिस्सां जरूर बनाना चाहिये।

मोटी इलाइची (Black Cardamom )

भारतीय व्यंजनों में बड़ी इलायची का इस्तेमाल प्रमुखता से किया जाता है. मसालेदार व्यजंनों में स्वाद और सुगंध दोनों के ही लिए इसका प्रयोग किया जाता है. पर कम ही लोगों को पता होगा कि बड़ी इलायची में कई औषधीय गुण भी पाए जाते हैं  बड़ी इलायची में कुछ खास किस्म के पोषक तत्व, फाइबर और तेल होता है. ये कई तरह की बीमारियों को दूर करने में कारगर होता है. नियमित रूप से बड़ी इलायची का सेवन करने से स्वास्थ्य बेहतर बनता है.

तेज़ पत्ता (Bay Leaf)

तेज़ पत्ता रसोईघर में मिलने वाली एक ऐसी आयुर्वेदिक हर्ब है, जिसे हम अक्सर अपने भोजन को स्वादिष्ट बनाने के लिए इस्तेमाल करते है लेकिंग क्या आपको पता है की ये एक साधारण सी दिखने वाली ये पत्ती काफी ज्यादा गुणकारी है, तेज़ पत्ते में मौजूद एंटी इंफ्लामेन्ट्री गुण के कारण सिर के बालो से लेकर त्वचा और शरीर के कई रोगो का उपचार करने में कारगर है।

काली मिर्च (Pepper)

किंग ऑफ स्पाइस नाम से प्रचलित काली मिर्च गर्म मसालों में प्रमुख है। काली मिर्च खाने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले गर्म मसालों का तो अहम हिस्सा है, साथ ही यह औषधीय गुणों से भी भरपूर होती है। काली मिर्च जहां खाने मे स्वाद बढ़ाती है वहीं इसका सेवन सेहत के लिए भी फायदेमंद होता है। इतना ही नहीं, रोजाना इसका सेवन दिल को भी स्वस्थ रखता है। दिल शरीर का सबसे महत्वपूर्ण अंग है और यही पूरे शरीर में ऑक्सीजन रक्त का संचार करता है।  

पीपली (Long Pepper)

पीपली चूंकि एक मसाला है, तो इसका आमतौर पर खाना बनाने में किया जाता है, लेकिन तासीर बेहद गर्म होने की वजह से बहुत ही कम मात्रा में इसका सेवन किया जाता है। इसके अलावा पीपली का उपयोग आयुर्वेदिक दवाओं को बनाने के लिए किया जाता है। पीपली को शरीर के त्रिदोष (कफ, पित्त और वात) को खत्म करने के लिए आयुर्वेद में रामबाण उपाय माना जाता है।

कपूर (Camphore)

कपूर शरीर तथा दिमाग दोनों को दुरुस्त रखने में मददगार होता है। जोड़ों के दर्द, जलने-कटने तथा अन्य कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं के लिए कपूर लाभकारी प्राकृतिक औषधि है।कपूर का उपयोग पुरानी खांसी, जोड़ो के दर्द और स्वांश जैसी समस्याओं का उपचार करने में किया जाता है।

दालचीनी (Cinnamon)

दालचीनी लगभग हर भारतीय रसोई में आसानी से मिल जाती है। यह एक ऐसा मसाला है, जिसका इस्तेमाल खाने का स्वाद बढ़ाने के लिए ही नहीं, बल्कि एक औषधि की तरह भी किया जाता है। दालचीनी व्यक्ति को स्वस्थ रखने और बीमारियों से बचाए रखने में मदद कर सकती है। बस ध्यान दें कि दालचीनी किसी बीमारी का इलाज नहीं है। हां, यह रोग से बचने और शरीर को स्वस्थ रखने में मदद जरूर कर सकती है।

हल्दी (Turmeric)

आपकी रसोई में रखे बहुत से मसालों के बीच एक मसाला है हल्दी, जिसके बिना आपका भोजन नीरस एवं बदरंग हो जाएगा। विश्व में हल्दी की लगभग सत्तर किस्में चलन में हैं।हल्दी हमारे भोजन का तो एक प्रमुख अंग है ही लेकिन क्या आप जानते हैं कि हल्दी में अनेक औषधीय गुण भी होते हैं। वात, पित्त तथा कफ तीनों प्रकार के विकारों को ठीक करने की शक्ति हल्दी में होती है। गरम दूध में हल्दी डालकर पिलाने से रोगी को खांसी से आराम मिलता है।

तुलसी (Basil)

हमारे देश में तुलसी के पौधे को बहुत ही पवित्र मन जाता है देश में शायद ही ऐसा कोई घर होगा जहाँ ये पौधा न पाया जाता हो लेकिन क्या आप जानते है चलती का पौधा जितना पवित्र है उतना ही गुणकारी भी है तुलसी एक एंटी ऑक्सीडेंट है तुलसी के आरक की बूंदे पानी में दाल कर पीने से इम्युनिटी बढाती है हर रोज़ इसका इस्तेमाल करने से शरीर से हानिकारक तत्व बहार निकल जाते है।

ऊपर दिए गए सभी नेचुरल हर्ब्स को आप अपनी लाइफ में इस्तेमाल करके अपने शरीर की इम्युनिटी को नेचुरल तरीके से बढ़ा सकते है तो चलिए आज ही से अपनी जीवन शैली में छोटे-छोटे बदलाव करके आप अपनी बॉडी को स्वस्थ और रोग मुक्त बना सकते है।



(Visited 39 times, 1 visits today)
Last modified: June 19, 2020
Close